न जाने ....

न जाने किस रास्ते से आकर ....
चांदनी तेरे आँखोंसे बरसते है!

न जाने किस खोने में छुपकर
सूरज के रोशनी तेरे होटोंपे खिलते है!!

न जाने क्यों ये दिल तेरे आवाज़ से धडकता है...
न जाने क्यों मेरी जान तेरे सांसोसे से चलता है!

सवाल तो चाहें सौ किसमका कर लेंगे... तुमे हम
न जाने जवाब किस सवाल का मिलजाता है!!

Comments

Popular posts from this blog

A song very close to my heart.....

Go…Goa…Green